मण्डल 1- सूक्त 18

177. सोमानं सवरणं कर्णुहि बरह्मणस पते |
कक्षीवन्तं याुशिजः ||

* हे सम्पूर्ण ज्ञान के अधिपति ब्राह्मणस्पति देव ! सोम का सेवन करने वाले यजमान को आप उशिज के पुत्र कक्षिवान की तरह श्रेष्ठ प्रकाश से उक्त करें .

178॰ यो रेवान यो अमीवहा वसुवित पुष्टिवर्धनः |
स नः सिषक्तु यस्तुरः ||

* ऐश्वर्यवान, रोगों का नाश करने वाले, धन प्रदाता और पुष्टिवर्धक तथा जो शीघ्र फलदायक हैं, वे ब्राह्मणस्पति देव, हम पर कृपा करें.

179. मा नः शंसो अररुषो धूर्तिः परणं मर्त्यस्य |
रक्षा णो बरह्मणस पते ||

* हे ब्राह्मणस्पति देव ! यज्ञ न करने वाले तथा अनिष्ट चिंतन करने वाले दुष्ट शत्रु का हिंसक, दुष्ट प्रभाव हम पर न पड़े . आप हमारी रक्षा करें.

180. स घा वीरो न रिष्यति यमिन्द्रो बरह्मणस पतिः |
सोमो हिनोति मर्त्यम ||

* जिस मनुष्य को इन्द्रदेव, ब्राह्मणस्पति देव और सोमदेव प्रेरित करते हैं, वह वीर कभी नष्ट नहीं होता.
(इंद्र से संघटन की, ब्राह्मणस्पति देव से श्रेष्ठ मार्गदर्शन की एवं सोम से पोषण की प्राप्ति होती है. इनसे युक्त मनुष्य क्षीण नहीं होता. ये तीनो देव यज्ञ में एकत्रित होते हैं. यज्ञ से प्रेरित मनुष्य दुखी नहीं होता वरन देवत्व प्राप्त होता है.)

181. तवं तं बरह्मणस पते सोम इन्द्रश्च मर्त्यम |
दक्षिणा पात्वंहसः ||

* ब्राह्मणस्पति देव ! आप सोमदेव इन्द्रदेव और दक्षिणादेवी के साथ मिलकर यज्ञादि अनुष्ठान करने वाले मनुष्यों की पापों से रक्षा करें.

182. सदसस पतिमद्भुतं परियमिन्द्रस्य काम्यम |
सनिं मेधामयासिषम ||

* इन्द्रदेव के प्रिय मित्र, अभीष्ट पदार्थों को देने में समर्थ, लोकों का मर्म समझने में सक्षम सदसस्पतिदेव (सत्प्रवर्तियों के स्वामी) से हम अद्भुत मेधा प्राप्त करना चाहते हैं.

183. यस्माद रते न सिध्यति यज्ञो विपश्चितश्चन |
स धीनां योगमिन्वति ||

* जिनकी कृपा के बिना ज्ञानी का भी यज्ञ पूर्ण नहीं होता, वे सदसस्पतिदेव हमारी बुद्धि को उत्तम प्रेरणाओं से युक्त करतें हैं.

184. आद रध्नोति हविष्क्र्तिं पराञ्चं कर्णोत्यध्वरम |
होत्रा देवेषु गछति ||

* वे सदसस्पतिदेव हविष्यान्न तैयार करने वाले साधकों तथा यज्ञ को प्रवृद्ध करते हैं और वे ही हमारी स्तुतियों को देवों तक पंहुचाते हैं.

185. नराशंसं सुध्र्ष्टममपश्यं सप्रथस्तमम |
दिवो नसद्ममखसम ||

* द्धुलोक के सदृश अतिदिप्तिमान, तेजवान, यशस्वी और मनुष्यों द्वारा प्रशंसित सदसस्पतिदेव को हमने देखा है.