स्वागतम !

स्वागतम !

ॐ नमः शिवाय…

 

गुरुदेव के चरणों में वंदन करते हुए गणेशजी को याद करता हूँ कि यह कार्य (ऋग्वेद का हिंदी रूपांतरण कंप्यूटर पर लिखना) बिना किसी बाधा के जल्दी ही पूरा हो जाये.

माँ सरस्वती के साथ अन्य देवी-देवताओं को भी नमन करता हूँ, और आज 2 जनवरी 2016 को प्रातः 10:15 बजे इस कार्य की शुरुआत करता हूँ .

आशा है हिंदी के पाठकों को इससे लाभ होगा. कठिन शब्दों को रेखांकित करके या कोष्ठक में समझाया गया है. अन्य सुझाव सादर आमंत्रित हैं.

ऋग्वेद के लिए नया पत्ता ऋग्वेद… है.